❤जय कन्हैया लाल की❤

 
❤जय कन्हैया लाल की❤
चरन गहे अँगुठा मुख मेलत । नंद-घरनि गावति, हलरावति, पलना पर हरि खेलत ॥ जे चरनारबिंद श्री-भूषन, उर तैं नैंकु न टारति । देखौं धौं का रस चरननि मैं, मुख मेलत करि आरति ॥ जा चरनारबिंद के रस कौं सुर-मुनि करत बिषाद । सो रस है मोहूँ कौं दुरलभ, तातैं लेत सवाद ॥ उछरत सिंधु, धराधर काँपत, कमठ पीठ अकुलाइ । सेष सहसफन डोलन लागे हरि पीवत जब पाइ ॥ बढ़यौ बृक्ष बट, सुर अकुलाने, गगन भयौ उतपात । महाप्रलय के मेघ उठे करि जहाँ-तहाँ आघात ॥ करुना करी, छाँड़ि पग दीन्हौं, जानि सुरनि मन संस । सूरदास प्रभु असुर-निकंदन, दुष्टनि कैं उर गंस ॥ भावार्थ :-- श्रीनन्दपत्नी गाती जाती हैं, झुलाती हैं, श्याम पलने में लेटे खेल रहे हैं । वे हाथ से चरण पकड़कर अँगूठे को मुख में डाल रहे हैं । मेरे जिस चरणकमल को लक्ष्मी जी अपना आभूषण बनाये रहती हैं । हृदय पर से जिसे तनिक भी नहीं हटातीं, देखूँ तो उन चरणों में क्या रस है?' यह सोचकर बड़ी उत्सुकतापूर्वक उसे मुख में डाल रहे हैं ।'मेरे जिस चरणकमल रस को पाने के लिये देवता और मुनिगण भी चिन्ता किया करते हैं, वह (अपने चरणों का) रस तो मेरे लिये भी दुर्लभ है' इसीलिये मानो प्रभु उसका स्वाद ले रहे हैं । लेकिन जब श्रीहरि अपने पैर के अँगूठे को पीने लगे, तब (प्रलयकाल समझकर) समुद्र उछलने लगा, पर्वत काँपने लगे, (शेष को भी धारण करने वाले) कच्छप की पीठ व्याकुल हो उठी, (भार को हटाने के लिये) शेषनाग के सहस्र फण (फुत्कार करने के लिये) हिलने लगे, अक्षयवट का वृक्ष बढ़ने लगा, देवता व्याकुल हो उठे, आकाश में उत्पात होने लगा (तारे टूटने लगे) और महाप्रलय के बादल स्थान-स्थान पर वज्रपात करने प्रकट हो गये इससे देवताओं के मन को सशंकित समझकर प्रभु ने कृपा करके पैर छोड़ दिया । सूरदास जी कहते हैं--मेरे स्वामी तो असुरों का विनाश करने वाले हैं (प्रलय करने वाले नहीं हैं)। केवल दुष्टों के हृदय में उनके कारण काँटा चुभता (वेदना होती) है ।
Tags:
 
shwetashweta
erstellt von: shwetashweta

Dieses Bild bewerten:

  • Aktuelle Bewertung: 5.0/5 Sternen.
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5

51 Stimmen.


Dieses Blingee weitergeben

  • Facebook Facebook
  • Myspace Myspace
  • Twitter Twitter
  • Tumblr Tumblr
  • Pinterest Pinterest
  • Dieses Blingee weitergeben mehr ...

Schnell-Link auf diese Seite:

 

Verwendete Blingee-Stamps

7 Grafiken wurden verwendet, um dieses "❤जय कन्हैया लाल की❤"-Bild zu erstellen.
Light Blue Water Background  **db**
Leaf
Frame
TRANSPARENT BACKGROUND  PRZEZ LIGHT SUN YELLOW
बालकृष्ण★
Frame
Frame
 

Ähnliche Blingee-Bilder

❤श्री कृष्णचन्द्र❤
❤श्री राधा श्यामसुंदर❤
❤श्री राधा मदनमोहन❤
☀जय श्री राम☀
 

Kommentare

mimib06

mimib06 sagt:

Vor 399 days
❀°°°·.°•WONDERFUL!•°.·°°°❀
 ♥•••••••5☆★☆★☆••••••••♥
         good evening..
   ❀°  later good night  °❀ 
4r13s

4r13s sagt:

Vor 458 days
☆★☆★ WOW! This Is A ☆★☆★
╔═╗══════════════╔╗════          
║═╬═╦═╦═╦══╦═╦═╦╦╣╠═╦═╗ 
╠═║╬║╩╣╬╬╗╔╣╬║╬╣║║║╬║╔╝
╚═╣╔╩═╩═╝╚╝╚╩╩═╩═╩╩╩╩╝
══╚╝═══════════════════ BLINGEE
 ☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
Sandyqueen101

Sandyqueen101 sagt:

Vor 486 days
♥
(¯`v´¯)
.`•.¸.•´ ★                   
¸.•´.•´¨) ¸.•¨)
(¸.•´(¸.•´ (¸.•¨¯`* ♥
★ LOVELY!!!!!
1oooVoтeTнαnks

1oooVoтeTнαnks sagt:

Vor 516 days
+5 nice
Anexsunamun_02

Anexsunamun_02 sagt:

Vor 517 days
Adorable!
moreno_gabriela

moreno_gabriela sagt:

Vor 517 days
sweet!!!
MAEVA62022

MAEVA62022 sagt:

Vor 518 days
  ⋱ ⋮ ⋰
   .-“*”-.,.-“*”-.King Arthur's sword
(“)(   ◕ , ◕   )(“)_ڿڰۣڿۣ☸ 
     . `= ´  .”  BEAUTIFUL. 5 *****
    (“”) (“”)  Have nice new week!
Framboise2010

Framboise2010 sagt:

Vor 518 days
             ,___, ,___,        
             (•v•) (•v•)    ღ мαgηιƒιquє ღ 
              /)).)   (.((\  
        ꕤꕤ ^^     ^^ ꕤꕤ
мercι poυr тeѕ voтeѕ, тeѕ ɢeɴтιlѕ
     coммeɴтαιreѕ eт тoɴ αмιтιe !

Möchtest du einen Kommentar abgeben?

Bei Blingee mitmachen (für einen kostenlosen Account),
Login (wenn du bereits Mitglied bist).

Unsere Partner:
FxGuru: Special Effects for Mobile Video